Live

राजू सिंह की रिपोर्ट

दरभंगा :- एक तरफ जहाँ बाढ़ व कोरोना ने पूरे प्रदेश को अपने कब्जे मे लेकर लोगों की कमर तोड़ दी है वहीं सारी पार्टियां बिहार विस चुनाव को लेकर अपनी कमर कस रहे हैं। जिसको देखते हुए छात्र सेना के विश्वविद्यालय अध्यक्ष व छात्रसंघ परिषद सदस्य प्रशांत राय ने कोसी, सीमांचल, मिथिलांचल समेत बाढ़ प्रभावित उत्तर बिहार के लिए केंद्र सरकार से विशेष बाढ़ राहत पैकेज की मांग की। प्रशांत राय ने कहा कि बाढ़ बिहार की जनता के लिए नासूर बन गई है साथ ही किसानों के फसल बर्बाद हो गए। लोगों के घर तबाह होने के साथ साथ जान-माल की भी भारी क्षति हो रही है । उपर से कोरोना संकट भी बिहार में व्यापक पैमाने पर अपने रूप ले चुका है । ऐसे में प्रशांत ने केंद्र सरकार से मांग करते हुए कहा कि वे बिहार और बिहारियों की समस्या को ध्यान में रखकर आर्थिक पैकेज की घोषणा जल्द करें और उसे जनता तक पहुंचाने का काम भी करें।

उन्होंने बिहार सरकार से भी अपील कि बिहार को बाढ़ से बचाने के लिए राज्य सरकार युद्ध स्तर पर कार्य करे। हवाई सर्वेक्षण के बदले जमीन पर जाकर लोगों की तकलीफ को समझे और राहत बचाव कार्य में तेजी लाये।  उन्होंने आगे कहा की  राज्य सरकार बाढ़ पीडि़तों तक मदद पहुंचाये और बिना राजनीति के बाढ़ की समस्या का समाधान करे। वरना जनता तो इस बार छोडऩे वाली नहीं है।

श्री राय ने कहा कि सम्पूर्ण क्षेत्र विनाशकारी बाढ़ से त्रस्त है। इन क्षेत्रों में निवास करनेवाले लाखों लोग कष्टकारी जीवन -यापन करने को अभिशप्त हैं। लाखों लोग आजीविका के साथ-साथ अपने निवास को खो चुके हैं। ये लोग सडक़ों एवं तटबंधों पर आश्रय लेने को मजबूर हैं। भीषण विपदा की इस घड़ी में राज्य सरकार एवं केंद्र सरकार किंकर्तव्यविमूढ़ है। सारा प्रशासनिक कुनबा आगामी विधानसभा की तैयारी में लगा हुआ है।  बावजूद इसके कि सत्ताधारी भाजपा-जदयू के सैकड़ों नेता-कार्यकर्ता वैश्विक महामारी कोरोना से ग्रस्त हैं, दोनों ही पार्टियां वर्चुअल रैली में व्यस्त है ।।

  


  




जरूर पढ़ें