Live

छपरा: मुफस्सिल थाना क्षेत्र के प्रभुनाथ नगर दहियावां टोला मोहल्ले में शादी समारोह के दौरान शनिवार की मध्य रात को दो गुटों के बीच जमकर हुई गोलीबारी तथा हिंसक झड़प की घटना में एक व्यक्ति की मौत हो गयी तथा पांच लोग घायल हो गये। घटना के बाद आनन-फानन में घायलों को  इलाज के लिए सदर अस्पताल लाया गया । अस्पताल पहुंचने के बाद वहां अफरा-तफरी तथा हंगामा की स्थिति उत्पन्न हो गयी, जिसके कारण अस्पताल प्रशासन को पुलिस को बुलानी पड़ी । घटना की गंभीरता को देखते हुए मौके पर नगर थाना, भगवान बाजार थाना, मुफस्सिल थाना की पुलिस पहुंची। बताया जाता है कि दहियावां टोला मुहल्ले के निवासी रविंद्र कुमार सिंह के भगिना के शादी थी और उसी में दहियावां टोला टाड़ी निवासी केदार सिंह तथा शंभू सिंह दो भाइयों के द्वारा फायरिंग की गयी, जिसमें रविंद्र सिंह तथा अभिषेक कुमार को कमर के पास गोली लग गयी। इस दौरान हुई हिंसक झड़प की घटना में सत्येंद्र सिंह तथा राकेश कुमार सिंह भी गंभीर रूप से घायल हो गये। सभी घायलों का प्राथमिक उपचार करने के बाद पीएमसीएच पटना रेफर कर दिया गया। पीएमसीच जाने के बाद रवींद्र सिंह की मौत हो गयी। इस घटना में एक पक्ष की ओर से रविंदर सिंह अभिषेक सिंह को गोली लगी तथा सत्येंद्र सिंह और राकेश कुमार सिंह को धारदार हथियार से मारकर गंभीर रूप से घायल किया गया। जबकि दूसरे पक्ष के केदार सिंह तथा शंभू सिंह का सिर फटा । घटना की सूचना पाकर रात में ही मुफस्सिल थाने की पुलिस दहियावां टोला पहुंची और इसकी जांच शुरू कर दी है। समाचार लिखे जाने तक इस मामले में प्राथमिकी दर्ज नहीं हो सका है। इस घटना के बाद से दोनों पक्षों के बीच तनाव की स्थिति बनी हुई है और पुलिस इसकी जांच कर रही है। घटना का कारण प्रथम दृष्टया आपसी वर्चस्व की लड़ाई बताई जा रही है । दरअसल इस इलाके में भू माफिया के बीच वर्चस्व की लड़ाई चल रही है। शादी समारोह में गोलीबारी व हिंसक झड़प की घटना के कारण के पीछे भी वर्चस्व की लड़ाई होने की आशंका है। प्रत्यक्षदर्शियों ने संजीवनी समाचार को  बताया कि रविंद्र सिंह के भगिना के घर शादी समारोह के दौरान केदार सिंह के पुत्र रात को 10:00 बजे विवाद हुआ, जिसके बाद उसके साथ मारपीट की गयी। मारपीट के बाद वह अपने घर जाकर परिजनों को बताया। देर रात को उसके परिजन इसकी शिकायत लेकर जब पहुंचे तो, उनके साथ बहस होते -होते विवाद बढ़ गया और हिंसक झड़प की घटना हो गयी। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि केदार सिंह के पुत्र के द्वारा बारात में आई किसी गाड़ी पर हाथ रखने के कारण विवाद शुरू हुआ था। दरअसल केदार सिंह के पुत्र अपने घर मोटरसाइकिल से जा रहा था और सड़क पर खड़ी गाड़ी को साइड करने के लिए उसने थपथपाया ,जिससे विवाद बढ़ गया और सबसे पहले इसी को लेकर मारपीट हुई। रात को 10:00 बजे शुरू हुई इस घटना का अंत 2:00 बजे रात को तब हुआ है, जब गोलीबारी व धारदार हथियार एक दूसरे की ओर से चलाए गए और आधा दर्जन लोग जख्मी हो गए।

  


  




जरूर पढ़ें