Live

बेतिया : आज दिनांक 20 मार्च 2020 को विश्व गोरैया दिवस के अवसर पर सत्याग्रह रिसर्च फाउंडेशन के सभागार में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया! इस अवसर पर स्वच्छ भारत मिशन के ब्रांड एंबेसडर सह सचिव सत्याग्रह रिसर्च फाउंडेशन डॉ0  एजाज अहमद (अधिवक्ता) ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण एवं जलवायु परिवर्तन एवं विलुप्त हो रहा है पक्षियों के  रोकथाम के लिए शहरों में लोगों को जागरूक करने के लिए 2010 में विश्व गौरैया दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया ! पर्यावरण संरक्षण एवं जलवायु परिवर्तन की रोकथाम के लिए पेड़ लगाएं एवं गौरैया बचाएं अभियान विगत एक दशक से पूरे भारतवर्ष में सक्रिय हैं! देश के विभिन्न राज्यों में इस दिशा में सकारात्मक कार्य हो रहे हैं! इस अवसर पर पर्यावरणविदों बुद्धिजीवियों एवं छात्र छात्राओं से आह्वान करते हुए कहा  डॉ एजाज अहमद ने कहा कि नई पीढ़ी को पर्यावरण ,जल संरक्षण वायु संरक्षण  स्वच्छता एवं जलवायु परिवर्तन के प्रति सचेत होने की आवश्यकता है! ताकि आने वाली नई पीढ़ी के जीवन को सरल एवं सुलह बनाया जा सके! इस अवसर पर स्वच्छ भारत मिशन के ब्रांड एंबेसडर डॉ नीरज गुप्ता एवं बिहार विश्वविद्यालय के इतिहास विभाग के डॉ0 शाहनवाज अली ने कहा कि बेतिया पश्चिम चंपारण सदियों से वनों से हरा भरा क्षेत्र रहा है! पूरे बिहार में बेतिया पश्चिम चंपारण की फिजाओं में  हवा सबसे अधिक विशुद्ध है! बकौल मुख्यमंत्री बिहार सरकार नीतीश कुमार के अनुसार प्राकृतिक रूप से सबसे सुंदर जिला है बेतिया पश्चिम चंपारण! इसे जारी रखने के लिए बेतिया पश्चिम चंपारण में देव वृक्ष नीम एवं पीपल एवं चंपा के पौधे लगाए जाएंगे इस अभियान के लिए वन विभाग एवं विभिन्न सामाजिक संगठनों का सहयोग लिया जा रहा है! गौरैया विशुद्ध पर्यावरण की प्रतीक हैं ।।


Posted by


जरूर पढ़ें