Live

रिपोर्टर-बैजु कुमार बिहटा

बिहटा पटना  : औरंगाबाद रेलवे लाइन के मांग 1980 से चले आ रहे हैं। इस परियोजना का पूरा प्रकलन 3500 करोड़ है।सरकार द्वारा जब भी बजट पेश की जाती है तो बिहटा औरंगाबाद के क्षेत्र की जनता को आस लगा रहती की इस बार इस परियोजना की धरातल पे उतारने के लिये ज्यादा राशि दी जाएगी लेकिन इस परियोजना के लिए मात्र 20 करोड़ की राशि दी गयी इतना कम राशि इतने दिनों से चली आ रहे मांग होने पर भी जो ऊँट के मुंह मे जीरा वाली कहावत निहतार्थ होती है। लेकिन चुनाव आते ही नेताओं के बयान बाजी शुरू हो जाते हैं कि इस कार्य को जल्द से जल्द शुरू किया जाएगा।लेकिन बिहार से 39 सांसद और कई मंत्री अभी सरकार में है। उसके बावजूद भी कार्य शुभारंभ नहीं हुआ यहां के ग्रामीण लोग पीएम और रेलमंत्रालय में आवेदन देने के बाद भी आज तक कार्य शुरू नहीं हुआ जो पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव ने अपने हाथों से इस बिहटा- औरंगाबाद रेलवे लाइन परियोजना का शुभारंभ किया था की इस परियोजना से जनता को लाभ मिला पाय लेकिन आज तक इस परिजनों पर कार्य तक नहीं होने से लालू जी का सपना अधूरा है।साथ ही रेलवे संघर्ष समिति चंदन कुमार वर्मा ने कहा कि पिछले कई वर्षों से गाँव से लेकर दानापुर मंडल,हाजीपुर मुख्यालय, दिल्ली के जंतर मंतर तक आंदोलन किया गया पिछले साल पालीगंज में अनिशिचत कालीन आमरण अनशन भी किया गया फिर सरकार द्वारा यह रेलवे परियोजना के लिये कभी बड़ी राशि नही दिया गया। इस क्षेत्र की सांसद भी चुपी साढे हुए हैं।इस बार के बजट में बिहटा औरंगाबाद रेलवे परियोजना में मिली मात्र 20 करोड़ की राशि दी गयी इस परियोजना से छोटे छोटे परियोजना के लिए इससे से ज्यादा राशि दी गयी सरकार इस क्षेत्र के जनता के साथ बार बार धोखा और अनदेखी कर रही है। यह रेलवे परियोजना धरातल पर  जब तक दिख नही जाए तब तक सड़क से दिल्ली के जंतर मंतर तक आंदोलन करते रहेंगे।जबतक हमारी मांग पूरी नही होती है तो बिहटा औरंगाबाद रेलवे के मांग को लेकर फिर से करगें आंदोलन तेज  ।।

                                    


Posted by

Pawan Kumar


जरूर पढ़ें