Live

नक्सल प्रभावित गांव कुसमहौत में आयोजित किए गए कार्यक्रम

बेगूसराय : छह दिवसीय बिहार पुलिस सप्ताह का शुभारंभ शनिवार से हो गया। एसपी अवकाश कुमार ने गोद लिए गए जिला के अति पिछड़े गांव कुसमहौत में पुलिस सप्ताह का शुभारंभ स्वच्छता अभियान के साथ किया। इस मौके पर एसपी अवकाश कुमार, सदर डीएसपी राजन कुमार सिन्हा, मंझौल डीएसपी सूर्यदेव कुमार, मेजर संजय सिंह, मुखिया उम्दा देवी एवं नीमाचांदपुरा थानाध्यक्ष शशि कुमार समेत तमाम अधिकारियों ने गांव में सफाई कर स्वच्छता का संदेश दिया। इससे पहले कुसमहौत के उच्चतर माध्यमिक विद्यालय परिसर में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए एसपी ने पुलिस सप्ताह के तहत आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की विस्तृत जानकारी दी। एसपी ने कहा कि पुलिस सप्ताह के तहत स्वच्छता कार्यक्रम, जल जीवन हरियाली एवं शराबबंदी से संबंधित ड्राइंग और पेंटिंग प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा। 25 फरवरी को मेडिकल कैंप तथा 26 फरवरी को वृक्षारोपण का आयोजन किया जाएगा। ताकि गांव साफ-सुथरा रहने के साथ ही ग्रामीणों को बेहतर और स्वच्छ वातावरण मिल सके। उन्होंने बच्चों तथा ग्रामीणों से कचरा डस्टबिन में रखने, महिलाओं से स्वच्छता के सभी आयामों का ध्यान रखने की अपील की। पूर्व में नक्सल प्रभावित गांव के नाम से जाने जाने वाले इस गांव की चर्चा करते हुए एसपी ने कहा कि बेगूसराय जिला 2018 में नक्सल मुक्त हो चुका है। सभी लोगों के सहयोग से नक्सली विचारधारा समाप्त हो चुका है। अब यह नक्सली नहीं अपराधी हैं। इनके बच्चे अच्छे स्कूल-कॉलेज में पढ़ रहे हैं, लेकिन वह दूसरों को बरगला कर उसका शोषण कर रहे हैं और अपराधी बना रहे हैं। अगर वह अपराध कर रहे हैं तो पुलिस को सूचना दें। हम उन अपराधियों को मुख्यधारा में लाने का प्रयास करेंगे। ऐसा नहीं होने पर उन्हें जेल भेजा जाएगा। शराबबंदी और नशा मुक्ति का असर लॉन्ग टर्म में दिखेगा। बच्चों का यह जनरेशन नशा मुक्त होकर भविष्य की दशा और दिशा तय करेगा। उन्होंने लोगों से नशा करने वालों को समझाने की भी अपील की। इस मौके पर स्कूली बच्चों ने नशा मुक्ति तथा बाल विवाह से संबंधित गीत प्रस्तुत कर लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया। मौके पर ग्रामीणों ने ग्राम रक्षा दल के सदस्यों को आधारभूत संरचना उपलब्ध कराने की भी मांग रखी।।


Posted by

Pawan Kumar


जरूर पढ़ें