Live

अश्वनी कुमार ब्यूरो रिपोर्ट ।।

समस्तीपुर : एक तरफ जहाँ भोजपुरी फ़िल्म इंडस्ट्री अश्लीलता की कगार पर है रोज नए भद्दे और गंदे गीत निकल रहे हैं उससे कोसों दूर हटकर समस्तीपुर की बेटी स्नेह इसी इंडस्ट्री को नई पहचान दे रहे हैं. 

जिंदगी का सिलसिला जारी  रहना चाहिए" 

ये कथन हैं बिहार (समस्तीपुर) के रेलवे सिनियर सेक्सन इंजीनियर "स्व. चन्द्रप्रकाश उपाध्या जी का, जिनका सपना पुरा कर रही उनकी बेटी "स्नेह उपाध्या, जो 8 साल कि उम्र से "लता जी" को अपना आदर्श मानकर भोजपुरी के सबसे बड़ा- बड़ा रियलिटी शो सुर-संग्राम से लेकर, बिहार आइडियल एवं सा रे गा मा पा रंग पुरवइया के मंच तक आपनी आवाज की जादू बिखेरती हुई | आज अपने युट्यूब चैनल के द्वारा लोगो का दिल जीत रही हैं |

आज जहाँ अपनी मार्यादा और संस्कृति को भुलकर हमारा भोजपुरी इंडस्ट्री अश्लीलता के दलदल में फसता चला जा रहा हैं, वही "स्नेह " अपने टैलेंट के दम पर भोजपुरी इंडस्ट्री के असली पहचान को दुनिया के सामने अपने तरीके से पेश कर रही हैं |

     1982 ई. के दशक में आई भोजपुरी फ़िल्म "नदिया के पार" जिसका कॉपी करके कई भाषायों में फिल्माया गया ,उस फ़िल्म का एक गाना " कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया " नये अंदाज में "स्नेह" कि आवाज में रिलीज हुआ है।।

  


  




जरूर पढ़ें