Live

नालंदा से बंटी राज आर्यन्स की रिपोर्ट:-

बिहारशरीफ । बीजेपी के रणनीतिकार, न्यू इंडिया का शिल्पकार, भारतीय सियासत का सूरज, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहली सरकार में वित्त मंत्री रहे भाजपा के कद्दावर नेता अरुण जेटली के असामयिक निधन पर जिले के समाजसेवी, साहित्यकार और साहित्य प्रेमियों ने प्रातः रविवार को स्थानीय सुभाषचंद्र बोस पार्क में शोक सभा आयोजित कर उन्हें श्रद्धांजलि दिया । कार्यक्रम की अध्यक्षता समाजसेवी भाजपा नेता अनिरुद्ध कुमार ने किया। 

 सुभाषचंद्र बोस पार्क में समाजसेवी भाजपा नेता अनिरुद्ध कुमार ने शोकसभा में गहरा शोक सम्वेदना प्रकट किया है। शोकसभा में संबोधित करते हुए समाजसेवी अनिरुद्ध कुमार ने कहा कि भारतीय राजनीति के शिखर पुरूष जेटली जी जबरदस्त अधिवक्ता, अदभुत वक्ता और देश के लोकप्रिय नेता थे। भाजपा के 66 वर्षीय कद्दावर नेता अरुण जेटली ने 24 अगस्त 2019 को दोपहर 12.07 मिनट पर अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में अंतिम सांस ली, वे 9 अगस्त से यहां भर्ती थे।

मौके पर समाजसेवी राकेश बिहारी शर्मा ने कहा कि पेशे से सफल वकील अरुण जेटली भारतीय राजनीति में अपने पीछे कई यादें छोड़ गये हैं। वित्त मंत्री रहते हुए जेटली ने देश की अर्थव्यवस्था, कालाधन, भ्रष्टाचार, नोटबंदी, डिजिटल ट्रांजैक्शन, जीएसटी, एसबीआई और बैंक ऑफ बड़ौदा में कई बैंकों का विलय जैसे कई बड़े फैसले लिये थे। वे एक प्रतिभावान वकील, एक अनुभवी सांसद और प्रतिष्ठित मंत्री थे। उन्होंने जेटली जी के बारे में बताते हुए कहा कि जेटली जी का जन्म दिल्ली में ख्यातिप्राप्त वकील महाराज किशन जेटली और रतन प्रभा जेटली के घर 28 दिसंबर 1952 को हुआ था। उनके पिता महाराज कृष्ण जेटली दिल्ली के ख्यातिप्राप्त प्रसिद्ध वकील थे। अरुण जेटली के दो बच्चे, पुत्र रोहन और पुत्री सोनाली हैं। उन्होंने दिल्ली के संत जेवियर स्कूल से पढ़ाई की थी। फिर श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से बीकॉम किया और उन्होंने दिल्ली के लॉ यूनिवर्सिटी से कानून की शिक्षा ली थी। 

अरुण जेटली जी अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के सक्रिय और शक्तिपुंज सदस्य रहे थे और वहीं से उन्होंने राजनीति की ककहरा सीख कर राजनीति शुरुआत की थी। इमरजेंसी के दौरान उन्होंने 19 महीने जेल में बिताये थे। जेल से छूटने के बाद उन्होंने जनसंघ पार्टी ज्वाइंन किया था। वे 1999 में अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में भी मंत्री रहे थे।

इस अवसर पर साहित्यकार डॉक्टर लक्ष्मीकांत सिंह, समाजसेवी मुन्ना कुमार, बौआ दा, अधिवक्ता बिनोद कुमार, डॉ प्रभात, अजय कुमार सिंह, उपेंद्र ठाकुर, सतेंद्र प्रसाद, कमलेश प्रसाद, सुमन कुमार, उपेन्द्रनाथ सिन्हा, अनूप कुमार, अनिल कुमार, इंद्रजीत प्रसाद वर्मा, अजित कुमार, केदार प्रसाद मेहता, महेश पंडित, सुजीत कुमार, प्रमोद कुमार, राजेश कुमार मिश्रा, हरिनंदन सिंह, सुनील पाण्डेय, दिनेश सिंह, सुधीर कुमार, नरेन्द्र प्रसाद, शिवेन्द्र कुमार, सीताराम प्रसाद सहित अन्य लोगों ने शोक व्यक्त किया। शोक सभा में दो मिनट का मौन धारण कर उनकी आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की गई। मौके पर उपस्थित लोगों ने पूर्व वित्त मंत्री स्वर्गीय अरुण जेटली के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि वह ‘बहुमुखी व्यक्तित्व' के व्यक्ति थे और उनके निधन से राष्ट्र को अपूरणीय क्षति हुई है।


Advertisements

Posted by : Raushan Pratyek Media

Follow On :


जरूर पढ़ें

Stay Connected