Live

:- मलय झा की रिपोर्ट

पूर्णियां। पूर्णियां के नगर निगम में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। अंदरखाने जो हो रहा है वो अब सामने आने लगा है। जनता नाम न छापने के शर्त पर कहती है कि नगर निगम में वर्चस्व की लड़ाई अब भी बरकरार है पर ये लड़ाई मेयर चुनाव के बाद खुल कर सामने नही आई है पर भीतरखाने बहुत कुछ चल रहा है ।

- पार्षद क्या कहते है।

पार्षद दबी जुबान से निगम की कार्यशैली पर अपना गुस्सा जाहिर कर रहे हैं। कई बार निगम की बैठक में भी पार्षदों ने कछुए की गति से चल  रही विकास की योजना पर सवाल भी उठाया है और इसको लेकर हो हल्ला भी होता रहा है। निगम के कार्य में अवरोध पैदा करने को लेकर नगर निगम के पार्षद ने मेयर सविता सिंह के पति प्रताप सिंह के खिलाफ गंभीर आरोप लगाते हुए डीएम प्रदीप कुमार झा को आवेदन देकर जांच की मांग की है। नगर निगम के वार्ड नंबर 7 के पार्षद सह एससी एसटी संघर्ष मोर्चा के जिलाध्यक्ष रमेश पासवान ने लिखित शिकायत में मेयर पति पर निगम कार्यालय में दहशत फैलाने और अभद्र भाषा का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया। काम में बाधा डालने की भी बात कह रहे हैं। पार्षद का कहना है कि वार्ड के काम से मैं अक्सर निगम कार्यालय आता जाता  हूं और यहां हमेशा अपने हथियार से लैस अंग रक्षकों के साथ मेयर पति घूमते नजर आते हैं। पार्षद कहते हैं कि इस दरम्यान हमें देखकर अक्सर अपशब्द का व्यवहार करते हैं। पार्षद रमेश पासवान ने बताया कि 5 अगस्त को दोपहर 12 बजे नगर निगम के ऑफिस के प्रधान सहायक के कमरे में वार्ड से जुड़ी योजनाओं के बारे में जानकारी ले रहे थे तभी महापौर के पति कार्यालय में पहुंचकर अचानक अपने बॉडीगार्ड के साथ आए और धक्का-मुक्की करने लगे। साथ ही धमकी भी दी। पार्षद का यह भी कहना है कि जब जनता ने मुझे चुना है और मैं अपने काम के लिए जाता हूं तो बिना किसी पद पर रहते हुए प्रताप सिंह किस आधार पर मेरे साथ गलत व्यवहार करते हैं। इस संबंध में पार्षद ने मुख्यमंत्री, राज्यपाल, प्रमंडलीय आयुक्त, नगर आवास विभाग के मंत्री और प्रधान सचिव को भी पत्र प्रेषित कर इस वाकया से अवगत करा दिया है। 

- क्या कहते है मेयर पति प्रताप सिंह।

पार्षद द्वारा लगाए गए आरोप को मेयर पति ने निराधार बताते हुए कहा कि उन्हें फंसाने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि निगम के किसी भी काम में बाधा नहीं डालते हैं। दरअसल विकास का काम लगातार हो रहा है और इसी से कुछ लोगों को ये भा नहीं रहा है और मनगढंत आरोप लगाया जा रहा है। मेयर पति प्रताप सिंह ने बताया कि प्रत्येक वार्ड में 2 से सवा 2 करोड़ का काम शुरू होना है , जिससे मेरे प्रतिद्वंद्वी को ये विकास का काम अच्छा नही लग रहा है तो इसी तरह आरोप प्रत्यारोप लगे गा ,जो बेबुनियाद है ।

- जांच के आदेश दिए है इस प्रकरण पर पूर्णिया डीएम ।

 डीएम ने नगर आयुक्त विजय कुमार सिंह से वार्ड पार्षद द्वारा लगाए गए आरोपों के बारे में जांच कर स्पष्टीकरण पूछा है। नगर आयुक्त का कहना है कि इस मामले से संबंधित एक पत्र आया है अभी तक मैंने इसे नहीं देखा है इसलिए मामले की जांच के बाद ही इसका खुलासा हो पाएगा कि पूरा माजरा क्या है? इसके मामले को लेकर दलित आदिवासी मोर्चा, भीम सेना सहित कई संगठन गोलबंद होने लगे हैं। जिला प्रशासन से दलित आदिवासी समाज ने कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।


Posted by

Raushan Pratyek Media


जरूर पढ़ें

Stay Connected