Live

:-- बांका से पंकज कुमार ठाकुर की रिपोर्ट

बांका। गरीबों को सफल बनाने के लिए सरकार द्वारा चलाया गया महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना के तहत स्थानीय रजौन प्रखंड में भी हर पंचायतों में लूट की माया चल रही है यह योजना बिचौलिए और  पीआरएस के लिए कोई वरदान से कम साबित नहीं हो रहा है और कम पढ़े लिखे मजदूरों की राशि पीआरएस और मुखिया जी  गटक रहे हैं रजौन प्रखंड में बरसों से कुंडली मारकर बैठे भ्रष्ट अधिकारी के भी वरद हस्त इन्हें हासिल रहते हैं तथा मुखिया और  पीआरएस की मिलीभगत से कई ऐसे नकली जॉब कार्ड बनाए गए हैं जिस पर सबसे पहले बिचौलिए की नजर रहती है और इन सभी जॉब कार्डों पर दनादन पैसे भेजे जा रहे हैं उसके बाद बिचौलिए बड़े आराम से उनके घर पर पहुंचकर 25% राशि उनको देखकर सारी राशि लेकर वापस चले आते हैं यही कारण है कि अभी मनरेगा भवन में जॉब कार्ड बनने की होड़ सी लग गई है नाम ना छापने के शर्त पर कई ऐसे पंचायत के मजदूरों ने बताया कि मेरे जॉब कार्ड के जरिए मेरे खाते पर पैसे आए थे जो मुझे खुद पता नहीं था लेकिन ज्यों ही सुबह पहुंचे पीआरएस के साथ बिचौलिए हम लोगों को सीधे बैंक ले गए और जिसे जितनी मर्जी उतनी पैसे थमा दिया गया जबकि असली हकदार मजदूर इस योजना से वंचित रह रहे हैं इस प्रखंड के कई पंचायत के मुखिया समेत पीआरएस ने जॉब कार्ड खुद अपने कब्जे में रख रखा है और कार्ड धारी मुखिया से लेकर पि ओ तो कभी मनरेगा भवन के चक्कर काट रहे हैं अब ऐसे में सरकार द्वारा चलाई जा रही मनरेगा योजना को कितना धरातल पर उतारा गया है यह किसी से छिपा नहीं हालांकि आला अधिकारी यह कह कर पल्ला झाड़ रहे हैं कि मामला संज्ञान में आने के बाद कार्यवाही सुनिश्चित है फिलवक्त मामला जो भी हो पिस रही है भोली भाली जनता और गरीब मजदूर।


Posted by

Raushan Pratyek Media


जरूर पढ़ें

Stay Connected