पूर्णिया : आम आदमी पार्टी के बिहार प्रदेश प्रवक्ता सह पूर्णिया जिला प्रभारी नियाज अहमद ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि जिस प्रकार सरकार ने सदन में लिखित रूप से झूठ बोला कि ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत नहीं हुई यह देश के सर्वोच्च सदन का अपमान है। ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों के हज़ारों साक्ष्य मौजूद हैं। झूठ बोलना सदन और देश के लोगों का अपमान है। प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि दरअसल केंद्र सरकार की मंशा ही नहीं है की ये आंकड़े कभी सामने आएं। आम आदमी पार्टी शासित दिल्ली सरकार ने 04 जून 2021 को 6 डाॅक्टर की एक एक्सपर्ट कमेटी बनाई थी। जिसे ये पता लगाना था की ऑक्सीजन की कमी से आखिर दिल्ली प्रदेश में कितनी मौतें हुई हैं। ताकि उनके परिजनों को मुआवजा दिया जा सके। परन्तु केंद्र सरकार द्वारा नियुक्त उपराज्यपाल ने 16 जून को इस कमेटी को ही निरस्त कर दिया केंद्र सरकार तानाशाह की तरह काम कर रही है। इसने ठान लिया है कि देश में जो भी कोरोना से हुई मौतों का सच सामने लाएगा उसे केन्द्र सरकार मनमाने तरीके से दबाव बनाकर डरा धमकाकर कर चुप रहने पर मजबूर कर देगी। आज देश के एक हिन्दी अखबार के कार्यालय में एक साथ कई शहरों में इन्कम टैक्स और ईडी के द्वारा छापेमारी कराकर सरकार ने चौथे स्तंभ पर सिर्फ इसलिए प्रहार किया है क्योंकि ये अखबार कोरोना से हुई मौतों के आंकड़े छिपाने का जो षडयंत्र सरकारें कर रही थी उसका सही तथ्य जनता के सामने रखकर सरकार का पोल खोल रही थी। केंद्र सरकार का ये कृत्य घोर निंदनीय है। नियाज अहमद ने कहा कि बिहार सरकार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने दावा किया है कि बिहार में ऑक्सीजन की कमी से एक भी मौत नहीं हुई है तो मंत्री ये बताएं कि आखिर क्यों पटना हाईकोर्ट ने आपसे कहा था कि सरकार कह रही है कि ऑक्सीजन की कमी नहीं है तो ऑक्सीजन की कमी से क्यों मौतें हो रही है। क्यों NMCH के अधीक्षक ने ऑक्सीजन की कमी के कारण अपना इस्तीफा तक सरकार को भेज दिया था। आम आदमी पार्टी के बिहार प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि सरकार चाहे जितना झूठ बोल ले पर ऑक्सीजन की कमी से बिहार सहित पूरे देश में जो हाहाकार मचा था उसका गवाह देश का हर छोटा बड़ा अस्पताल है। ऑक्सीजन की कमी ने जो तांडव मचाया था उससे देश का हर परिवार प्रभावित था। अमेरिका की रिसर्च एजेंसी सेंटर फॉर गलोबल डेवलपमेंट तथा हावर्ड युनिवर्सिटी एंव भारत सरकार के पूर्व चीफ इकोनोमिक एडवाइजर अरविंद सुब्रह्मण्यम एवं इनकी टीम ने मंगलवार को जो संयुक्त शोध रिपोर्ट जारी की थी। उसमें बताया गया है कि कोरोना से अब तक देश में 49 लाख लोगों की मौतें हुई है। ये देश की सबसे बड़ी त्रासदी है और हमारी सरकार इतनी अंधी और बहरी हो चुकी है कि न तो कोरोना संक्रमण के दौरान ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतें दिखाई दे रही है और न ही पीड़ित परिवारों की चीखें सुन पा रही है।


 


Advertisements

Posted by : Raushan Pratyek Media

Follow On :


जरूर पढ़ें

Grievance Redressal Officer (Any Complain Solution) Name: Raushan Kumar   Mobile : 8092803230   7488695961   Email : [email protected]