पूर्णियां :-लोजपा नेता अनिल उरांव का अपहरण, फिरौती व हत्या मामले के मास्टरमाइंड समेत मामले में संलिप्त सभी आरोपित को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। शुक्रवार को पुलिस ने घटना में संलिप्त मुख्य आरोपित अंकित राय के भांजा मिट्ठू को भी गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने उसे पिता के साथ मोटरसाइकिल से पूर्णिया आने के दौरान बनभाग के पास गिरफ्तार किया। अनिल उरांव का अपहरण कर फिरौती वसूलकर हत्या करने के मामले में संलिप्त सभी आरोपित तो गिरफ्तार हो चुके है लेकिन पुलिस अब तक फिरौती का एक भी रुपया बरामद नहीं कर पाई। पुलिस ने बताया कि फिरौती का रुपया अंकित फरार होने के बाद साली की शादी में खर्च जाकर किया और बांकी पैसा वहीं ठिकाना लगा दिया। फिरौती का रुपया पहले से ही घटना का मुख्य आरोपित अंकित और भांजा मिट्ठू के पास होने की बात सामने आती रही। अंकित की जब गिरफ्तारी हुई तो मिट्ठू के पास रुपया होने का बात कहा लेकिन जब मिट्ठू की गिरफ्तारी हुई तो उसने बताया कि अंकित ही रुपया लेकर गया और साली के शादी में खर्च किया।

लोजपा नेता का अपहरण और हत्या के बीच अपराधियों द्वारा वसूली गई फिरौती की बात पुलिस अंकित के गिरफ्तारी के बाद सहज रूप से स्वीकार की। अंकित की गिरफ्तारी से पूर्व पुलिस यह नहीं बोल रही थी कि फिरौती वसूली गई। पुलिस की आंख के सामने से वसूली गई फिरौती की बात दबाने के उद्देश्य से पुलिस हमेशा यह कहती कि यह जांच का विषय है जांच की जा रही है। मृत लोजपा नेता के स्वजन द्वारा 10 लाख रुपया फिरौती देने की बात कहे जाने के बाद भी पुलिस यह कभी स्पष्ट रूप से नहीं कहा कि फिरौती वसूला गया। पुलिस हमेशा से फिरौती की बात को जांच का विषय होने की बात कहकर टाल रहे थे। आखिरकार जब अंकित गिरफ्तार हुआ तब पुलिस ने स्पष्ट रूप से कहा फिरौती वसूली गई थी।

हथियार लेकर पूर्णिया क्यों आ रहा था अंकित::

घटना को अंजाम देने के बाद तीन आरोपित की गिरफ्तारी बाद फरार मुख्य आरोपित अंकित अपने ससुराल हाजीपुर इलाके में छिपकर रह रहा था। पकड़े जाने पर उसके और सहयोगियों के पास से बरामद एक पिस्टल, एक देशी कट्टा और 12 कारतूस आखिर किस उद्देश्य से लेकर पूर्णिया आ रहा था यह भी पुलिस के लिए जांच का विषय है। हथियार लेकर सहयोगियों के साथ पूर्णिया आना किसी दूसरी घटना को अंजाम देने तो नहीं आ रहा था, अब यह अहम पहलू हो गया है। अपहरण कांड के किसी साक्ष्य को छिपाने के लिए तो नहीं अंकित सहयोगी के साथ पूर्णिया आ रहा था। पुलिस इस जांच के बिदू को यह कहकर कन्नी काट रही है कि अपराधी था तो हथियार रखता था, लेकिन अगर जांच हो तो कुछ ना कुछ निकलकर जरूर सामने आएगा।

रिमांड पर लेकर होगी पूछताछ::

पुलिस ने घटना में संलिप्त सभी आरोपित एवं अन्य चार सहयोगी को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है। मामले में पुलिस को अभी कई बिन्दुओं पर अभी जानकारी हासिल करना है। इसके लिए पुलिस अब जरूरत के अनुसार जांच पूरी करने के लिए जेल भेजे गए आरोपितों से रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी। ताकि अपहरण कर फिरौती वसूलने के बाद हत्या की घटना में कुछ भू माफिया की संलिप्तता की बात उठी थी, लेकिन अब तक के जांच में ऐसा कोई तथ्य पुलिस के सामने नहीं आया है।


 


Advertisements

Posted by : Raushan Pratyek Media

Follow On :


जरूर पढ़ें

Grievance Redressal Officer (Any Complain Solution) Name: Raushan Kumar   Mobile : 8092803230   7488695961   Email : pratyak75@gmail.com