राजू सिंह कि रिपोर्ट 

दरभंगा, 05 मार्च 2021 :- प्रभारी जिलाधिकारी श्री तनय सुल्तानिया की अध्यक्षता में जिलाधिकारी कार्यालय प्रकोष्ठ में जिला कृषि टास्क फोर्स की बैठक आयोजित की गई।

बैठक में यथा स्थान जल संचय योजना, कृषि इनपुट सब्सिडी के लिए प्राप्त आवेदन प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना बागवानी के अंतर्गत बाग में अन्तर्वती जमीन में खेती, मधु उत्पादन, आत्मा के अंतर्गत किसानों का प्रशिक्षण कार्यक्रम, मिट्टी गुणवत्ता जांच, पौधा संरक्षण, फसल अवशेष प्रबंधन इत्यादि की समीक्षा की गई।

पशुपालन विभाग के अंतर्गत पशुओं की चिकित्सा, कृत्रिम गर्भाधान, मैत्री की बहाली, मुर्गी विकास योजना ,बकरी पालन, भैंस पालन की समीक्षा की गई ।

यथा स्थान जल संचय योजना के तहत जिन कृषकों के पास एक एकड़ जमीन एक ही स्थल पर हो वह 10 डिसमिल जमीन में तालाब का निर्माण जल संचय हेतु कर सकते हैं। बताया गया कि 20मीटर × 20 मीटर क्षेत्रफल का तालाब निर्माण के लिए कृषि विभाग द्वारा 44820 रुपये प्रदान किया जाता है।

बताया गया कि इसके लिए 1200 आवेदन प्राप्त हुए थे लेकिन अधिकतर आवेदकों की एक एकड़ जमीन का एक प्लाट न होकर अलग-अलग हैं। जबकि 1 एकड़ का एक ही प्लॉट होना चाहिए। जिले के 236 तालाब के लक्ष्य के विरुद्ध अभी तक 35 आवेदकों को कार्यादेश निर्गत किया गया है।

कृषि इनपुट सब्सिडी योजना के संबंध में जिला कृषि पदाधिकारी राधा रमण ने बताया कि कृषि इनपुट सब्सिडी के लिए 1 लाख 49 हज़ार 788 आवेदन प्राप्त हुए थे जिनमें से 1 लाख 22 हजार 434 आवेदन स्वीकृत किए गए हैं ।

जिला पशुपालन पदाधिकारी ने बताया कि जिले के सभी 31 पशु चिकित्सालय में 35 प्रकार की दवा उपलब्ध हैं। विभाग द्वारा दरभंगा जिला के 88148 पशुओं की चिकित्सा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था जिनमें से 85503 पशुओं की चिकित्सा की गई है। 87234 पशुओं का कृत्रिम गर्भाधान कराया गया है ।। 

प्रत्येक पंचायत में एक मैत्री को रखना था जो उपयुक्त अभ्यर्थी नहीं मिलने के कारण लंबित है। दरभंगा जिला के 6.54 लाख पशुओं का ईयर टैगिंग करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। अभी तक 4 लाख 74 हजार 800 पशुओं का ईयर टैगिंग किया जा चुका है।

पौधा संरक्षण पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि पौधा संरक्षण के अंतर्गत जिले के 9500 हेक्टेयर में मक्का के फसल का लक्ष्य निर्धारित किया गया था, जिसके विरुद्ध 5209 हेक्टेयर में मक्का लगाया गया है।

सहायक अनुसंधान पदाधिकारी ने बताया कि जिले के सभी प्रखंड के 9594 स्थलों के मिट्टी की जांच का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। अभी तक 3846 स्थलों की मिट्टी की जांच की गयी है। 

समीक्षा क्रम में अपर समाहर्ता विभूति रंजन चौधरी ने कृषि से संबंधित योजनाओं का व्यापक प्रचार-प्रसार कराने का निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि आम किसानों में योजनाओं के संबंध में जानकारी होनी चाहिए तभी पर्याप्त संख्या में आवेदन प्राप्त होंगे। दरभंगा जिला में कृषि क्षेत्र में प्रगति का विकल्प खुला हुआ है।तालाब निर्माण कर मखाना उत्पादन एवं मछली पालन कराया जा सकता है । ऐसे हजारों किसान होंगे जिनके पास एक ही जगह पर एक एकड़ का प्लॉट होगा। बगीचे में अंतरवर्ती खेती के तहत आदि, हल्दी ,ओल का व्यापक उत्पादन कराया जा सकता है।

कार्यपालक अभियंता लघु सिंचाई दरभंगा का बैठक में बिना सूचना के अनुपस्थित रहने को लेकर उनसे स्पष्टीकरण का मांग की गई है ।

बैठक में उप निदेशक जन-सम्पर्क, जिला कृषि पदाधिकारी, परियोजना निदेशक आत्मा, जिला पशुपालन पदाधिकारी, सहायक निदेशक बागवानी, पौधा संरक्षण पदाधिकारी, सहायक अनुसंधान पदाधिकारी उपस्थित थे ।





 


Advertisements

Posted by : Raushan Pratyek Media

Follow On :


जरूर पढ़ें

Grievance Redressal Officer (Any Complain Solution) Name: Raushan Kumar   Mobile : 8092803230   7488695961   Email : [email protected]