Live

राजू सिंह की रिपोर्ट

दरभंगा-इमामबाड़ा मोहल्ले मे प्रेमचंद जयंती समारोह मनाया गय. सर्वप्रथम मुंशी प्रेमचंद की तस्वीर पर माल्यार्पण किया गया. माल्यार्पण करने वालों में प्रेमचंद जयंती समारोह समिति के वरिष्ठ सदस्य श्री सुरेंद्र दयाल सुमन और  संयुक्तसचिव मुजाहिद आजम  एवं समिति सदस्य ललित कुमार झा ने माल्यार्पण किया. माल्यार्पण  करने के बाद सभा को संबोधित करते हुए मुजाहिद आजम ने कहा कि प्रेमचंद जयंती ऐसे वक्त पर मना रहे हैं जब राष्ट्र समाज और मानवता संस्कृति और नैतिक मूल्य की  विपन्नता के  गंभीर  संकट मैं फंसे हैं! संस्कृति के व्यापक प्रचार प्रसार अश्लील सिनेमा   साहित्यने युवा पीढ़ी के चेतना को    मलिनकर दिया है. प्रेमचंद जैसे  महापुरुषों की याद न सिर्फ स्वभाविक है बल्कि नितांत आवश्यक है, जिन्होंने आजीवन संघर्ष के के जरिए अपने साहित्य में मानवीय मूल्य और आदर्श   को कायम किया था. शोषित पीड़ित और थके हारे समुदाय को इनके साहित्य में जीवन की आस्था मिली थी. इसीलिए हम लोग को प्रेमचंद जयंती  मनाने की आवश्यकता है।

  


  




जरूर पढ़ें