Live

किशोर कुमार की रिपोर्ट

मधुबनी/बिस्फी-प्रखंड क्षेत्र संख्या 13 के जिला पार्षद सदस्य अनिता देवी ने कृषि मंत्री बिहार सरकार,आपदा प्रबंधन मंत्री बिहार सरकार,अनुमंडल पदाधिकारी बेनीपट्टी,प्रखंड विकास पदाधिकारी बिस्फी, अंचलाधिकारी बिस्फी को एक आवेदन देकर प्रखंड क्षेत्र को बाढ़ ग्रस्त घोषित करने एवं बाढ़ पीड़ितों को सहायता देने की मांग की है।जिला पार्षद सदस्य अनिता देवी ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि पूरा प्रखंड क्षेत्र बाढ़ और प्राकृतिक आपदा की दोहरी मार झेलने को विवश हैं।जिला में अत्यधिक बारिश के कारण पूरे प्रखंड के अन्य बरसाती नदियों में आई प्रलयंकारी बाढ़ से प्रखंड क्षेत्र पूरी तरह से प्रभावित है।लगातार हो रही बारिश एवं कोरोना महामारी के साथ बाढ़ का पानी लोगों के घर में घुसने एवं लाखो एकड़ में लगी फसल डूब जाने से लोगों का जीवन खतरे में पड़ गया है।उन्होंने कहा कि राज्य सरकार को चुनावी तैयारी के बदले कोरोना संक्रमण व बाढ़ से बचाने की चिंता करनी चाहिए।लेकिन वर्तमान समय में सरकार को जिले को बाढ़ प्रभावित क्षेत्र घोषित करने के साथ युद्ध स्तर पर राहत अभियान चलानी चाहिए।लेकिन राज्य सरकार और उसके आपदा प्रबंधन विभाग जनता को मदद करने को मदद करने के बदले अबतक लापता है।आने वाले बाढ़ के पानी से जिला के सभी प्रखंडों में भयंकर बाढ़ का रूप धारण कर लिया है। जिसमें सबसे ज्यादा ख़राब स्थिति बिस्फी की है।कई पंचायतों में बाढ़ का पानी लोगों के घर में घुसा हुआ है।कई पंचायत और प्रखंडों का जिला मुख्यालय से सम्पर्क भंग हो चुका है।जिला के लाखो परिवार विस्थापित जीवन जीने को विवश हैं।लाखों लोग बेघर हो गए।सरकार उदासीन बनी हुई है।लोगों को न राहत मिल रही है न कहीं सामुदायिक किचन की व्यवस्था है न नाव की व्यवस्था हैं न मेडिकल टीम कार्यरत हैं।लोग सड़क पर खुले आसमान में रात बिताने पर मजबूर है कुल मिलाकर बिहार सरकार और उसके आपदा प्रबंधन मंत्रालय फेल हो गयी है। सरकार एवं जिला प्रशासन को इस दोहरी विपदा में जिला को बाढ़ ग्रस्त क्षेत्र घोषित करने,

दोहरी विपदा से लड़ने के लिए प्रति परिवार तत्काल 30 हजार रुपये सहायता राशि देने,किसानों को फसल क्षति प्रति एकड़ कम से कम 35 हजार रुपये के दर से अविलंब देने सहित बेघर हुए गरीबों को प्रधानमंत्री आवास तुरंत उपलब्ध कराने की मांग की है।

  


  




जरूर पढ़ें