Live

रिपोर्ट : प्रदीप पांडेय,

गोंडा (यूपी) : जिला कृषि अधिकारी जेपी यादव ने बताया है कि टिड्डियों का दल पड़ोस के जनपद बस्ती, अयोध्या और सिद्धार्थनगर तक पहुंच चुका है। वहीं इस बात की संभावना व्यक्त की जा रही है कि टिड्डियों का दल जनपद गोंडा में भी हमला कर सकता है। टिड्डी दलों के सम्भावित हमले से बचाव के दृष्टिगत कृषि विभाग सहित अन्य संबंधित विभागों को एलर्ट कर दिया गया है। उन्होंने किसान भाइयों से अपील की है की  टिड्डी दलों के हमले से बचाव को लेकर सतर्क रहने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में किसानों के खेतों में बोई गई जायद की प्रमुख फसलों जैसे-मूंग, उर्द एवं हरी सब्जियों तथा गन्ना आदि फसलों की सुरक्षा के लिए सतर्क रहने की आवश्यकता है।

जिला कृषि अधिकारी  ने जनपद के किसानों से अपील करते हुए कहा कि टिड्डी दलों से बचाव को लेकर किसान भाइयों को बेहद सतर्क और जागरूक रहने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा किसान भाईयों को टिड्डी दल को भगाने के लिये थालियां, ढोल, नगाडे़ अन्य माध्यमों से ध्वनि करना चाहिए, जिसकी आवाज सुनकर खेत से टिड्डीयां भाग जायें। उन्होंने विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि टिड्डी  या टिड्डा एक्रिडीडी परिवार के आॅर्थोप्टेरा गण का कीट है तथा सबसे विनाशकारी कीट है। उन्होंने स्पष्ट किया कि इस कीट की उड़ान हजारों मील तक पाई जाती है। टिड्डियों को उनके चमकीले पीले रंग और पिछले लम्बे पैरों से पहचाना जा सकता है। टिड्डी जब अकेली होती हैं तो उतनी खतरनाक नहीं होती है लेकिन झुण्ड में रहने पर ये बहुत खतरनाक और आक्रामक हो जाती हैं तथा फसलों का एक बार में सफाया कर देती हैं। दूर से देखने पर ऐसा लगता है कि, फसल पर किसी ने एक बड़ी सी चादर बिछा दी हो । टिड्डीयाॅ फसलों के फूल, फल, पत्ते, तने, बीज और पेड़ की छाल सब कुछ खा जाती हैं। एक टिड्डी अपने वजन के बराबर खाना खाती है। टिड्डीयों का जीवन काल कम से कम 40 से 85 दिनों का होता है।

टिड्डियों को भगाने एवं नियंत्रित करने के लिये अपनाएं ये तरीके-जिला कृषि अधिकारी:

जिला कृषि अधिकारी ने किसानों को सुझाव देते हुए बताया कि टिड्डी दल को भगाने के लिये थालियां, ढोल, नगाडे़ अन्य माध्यमों से ध्वनि करना चाहियंे जिसकी आवाज सुनकर खेत से टिड्डियां भाग जायें। इसके अलावा रासायनिक कीटनाशक क्लोरो पायरीफॉस, मैलाथियाॅन 5 प्रतिशत धूल की 25 किग्रा0 मात्रा का बुरकाव या क्विनालफाॅस 25 प्रति0 ई0सी की 1.5 ली0 मात्रा को 500 से 600 ली0 पानी मे घोलकर प्रति हक्टेयर की दर से फसल पर छिड़काव करें। टिड्डी दल सुबह 10 बजे के बाद अपना डेरा बदलता है। इसलिये इसे आगे बढ़ने से रोकने के लिय लैम्डा सायहेलोथ्रिन 5 प्रति0 ई0सी0 की 01 ली0 मात्रा या क्लोरोपाइरीफाॅस 20 प्रति0 ई0सी0 की 1 ली0 मात्रा को 500 से 600 ली0 पानी में घोलकर प्रति हेक्टेयर की दर से फसल पर सुबह 10 बजे से पूर्व छिड़काव करें। उन्होने यह भी बताया कि टिड्डियों को भगाने में नीम  का तेल भी बहुत किफायती तथा कारगर है। इसके लिए नीम के तेल की 40 एम0एल0 मात्रा को 10 ग्राम कपडे़ धोने के पाउडर के साथ मिलाकर प्रति टंकी पानी में डालकर छिड़काव करने से टिड्डी फसलों को नही खा पाती है।

कृषि विभाग में कन्ट्रोल रूम स्थापित, काॅल करके कृषक ले सकते हैं मदद:

जिला कृषि अधिकारी नेे बताया है कि टिड्डी दलों के सम्भावित हमले से बचाव एवं मदद हेतु जनपद स्तर पर कन्ट्रोल रूम संचालित है। कृषक भाई टिड्डी दल के प्रकोप से सम्ब्ंाधित किसी भी प्रकार की सहायता हेतु कन्ट्रोल रूम के नम्बर 05262-233516 एवं मो0 नं0 9936898070 पर कार्यायल दिवस मे प्रातः 10 बजे से सायं 5 बजे तक सम्पर्क कर  किसानबन्धु जानकारी हासिल कर बचाव कर सकते हैं।

  


  




जरूर पढ़ें