Live

रिपोर्ट : अश्वनी कुमार ब्यूरो रिप

पटना (बिहार): आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय के इंजीनियरिंग एवं मेडिकल के छात्रों की समस्याओ को प्रमुखता से विश्वविद्यालय के समक्ष रखने के लिए सुपौल अभियंत्रण महाविद्यालय के छात्र आनंद को तकनीकी छात्र संगठन की ओर से उनके कार्यकुशलता  को देखते हुये कार्यकारी अध्यक्ष व स्वप्निल कुमार को विश्वविद्यालय पर्यवेक्षक का कार्यभार सौंपा गया। वहीं आनंद कुमार ने इसके लिए संगठन परिवार का आभार व्यक्त करते हुये कहा की छात्रों की जो वर्तमान समस्या है। कोरोना महामारी काल में परीक्षा कैसे सुरक्षित सम्पन्न करेंगे। बिना पुख्ता स्वास्थ्य तैयारी के छात्रों में संक्रमण फैल सकती है छात्रों की समस्याओ से विश्वविद्यालय, महामहिम राज्यपाल महोदय स्वास्थ्य मंत्रालय व यूजीसी को अवगत करा दी गई है। मंत्रालय की ओर से सोमवार को होने वाले बैठक के बाद छात्राहित में निर्णय की उम्मीद है।  विश्वविद्यालय सभी छात्रों को प्रमोट कर दे या स्वास्थ्य सेवा की पुख्ता इंतजाम पहले सुनिश्चित करे इसके बाद ही छात्र सुरक्षित अपनी परीक्षाओ को सम्पन्न कर सकेंगे। बिना स्वास्थ सेवा के परीक्षा लेना छात्रों के स्वास्थ्य से खेलना घातक हो सकती है। अगर विश्वविद्यालय छात्रों को प्रमोट करती है, तो उन्हे सीतामढ़ी, सुपौल, पूर्णिया, गया के बहिष्कृत परीक्षाओ को ख्याल मे रखते हुये उन्हे कम से कम पिछली परिणाम के साथ 5 एसपीजीए अधिक अंको से अगली सेमेस्टर में  पदोन्नति दे,  2018-19 छात्रवृति से भी बहुत छात्र परेशान है। बहुत जल्द जिले के नोडल शिक्षा पदाधिकारियों से वार्ता कर जल्द से जल्द छात्रों को पैसा आवंटन सुनिश्चित की जाय , वही आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक के अवैध नियुक्ति पर कड़ा विरोध जताते हुये कहा की जब तक जांच की रिपोर्ट नहीं आ जाती तब तक उन्हे सभी पदो से निलम्बित किए जाए।  अन्यथा संगठन इसके किए मोर्चा खोलने को मजबूर होगी।

  


  




जरूर पढ़ें