Live

रिपोर्ट : शम्भू कुमार ,

किशनगंज (बिहार) : सीमांचल के किशनगंज जिले में भी विश्वव्यापी घोषित महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने हेतु सरकार द्वारा लाए गए देशव्यापी लॉकडाउन के परिदृश्य में ट्रेनों के माध्यम से देश के अलग-अलग राज्यों से आने वाले प्रवासी मजदूरों को जिला पदाधिकारी डॉ. आदित्य प्रकाश के निर्देश के आलोक में प्रखंड एवं पंचायत स्तर के कवारंटीन केन्द्रो मे कुल 288 केन्द्र मे रख कर स्थानीय प्रशासन एवं जिला प्रशासन के  द्वारा उनकी बेहतर ढंग से देखभाल की जा रही है। 

ट्रेनों के माध्यम से आने वाले  प्रवासियों को जिलाधिकारी  के निर्देश के आलोक में रेलवे स्टेशन पर ही उनका चिकित्सकीय परीक्षण कराया जाता है। जिसके बाद उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग के साथ कतारबद्ध तरीके से उन्हें पेयजल भोजन की व्यवस्था तत्काल उपलब्ध करायी जाती है।  प्रखंड वार तरीके से निर्धारित बसों के माध्यम से उन्हे संबधित प्रखंडो के कवारंटीन केन्द्रो में भेज दिया जाता है। किशनगंज जिला अंतर्गत कुल 288 कवारंटीन केन्द्र  कार्यरत हैं जिनमें कुल 16626 प्रवासी मजदूरों को रखा गया है। जहां उनकी उचित देखभाल कराई जा रही है किसी भी कवारंटीन केन्द्र में किसी प्रकार की कोई कमी न हो इसके जिला पदाधिकारी आदित्य प्रकाश स्वयं ईश्वर नजर बनाए रखने के साथ-साथ औचक निरीक्षण भी कर रहे है, आज 21 मई दिन गुरुवार को भी प्राप्त सूचना के अनुसार देहरादून से किशनगंज श्रमिक स्पेशल ट्रेन से लगभग 993 यात्री सह  प्रवासी मजदूर एवं अहमदाबाद सेकिशनगंज आनेवाली  ट्रेन में लगभग 608  प्रवासी मजदूर के आने की संभावना है।  जिसे देखते हुए जिला पदाधिकारी सभी  प्रखंडों के अंचलाधिकारी सहित प्रखंड विकास पदाधिकारी को  निर्देश दिया गया कि आने वाले प्रवासी मजदूर के लिए खाने-पीने रहने और रोकने की पूरी तैयारी पूर्व से ही सुनिश्चित किया गया है। ताकि किसी भी प्रवासी मजदूरों को कोई दिक्कत न हो।

 आपको बताते चलें कि खबर लिखे जाने तक देहरादून और अहमदाबाद से आने वाली स्पेशल ट्रेन नहीं पहुंची थी जहां अधिकारी पूर्व से ही मौजूद थे।।

 

  


  




जरूर पढ़ें