Live

अरवल से तबरेज़ अंसारी की रिपोर्ट ।

अरवल जिला के कलेर प्रखंड मुख्यालय के शिवदेनी साव महाविद्यालय के गेट के समीप  जड़ी बूटी की दवा बेचने वाले दंपति को अंचल अधिकारी द्वारा  खाना का व्यवस्था किया गया। क्योंकि लॉक शॉट डाउन के चलते दुकान बंद पड़ गया है , जिस कारण उक्त दंपति को भोजन पर आफत आ गया है। जड़ी बूटी का दावा बेचकर रमेश सिंह पिता दौलत सिंह पत्नी कुंती बाई 6 वर्षीय पुत्री चांदनी कुमारी ग्राम छौक थाना कलापी कानपुर उत्तर प्रदेश के रहने वाला है। वह महीना दिन से इसी बाजार में जड़ी बूटी का दावा बेच कर अपना जीवन निर्वाह कर रहा था। तभी कोरोनावायरस के चलते लॉक शट डाउन का अध्यादेश पारित हो गया। जिसके चलते उक्त दंपति दाने दाने के लिए मोहताज हो गया। किंतु पत्रकारों के कैमरा  के नजर में आते ही अंचल अधिकारी आलोक कुमार को सुचना दिया गया, अंचल अधिकारी आलोक कुमार ने  तत्काल अपने निजी तौर से अनाज मुहैया कराया है। इस दौरान कानपुर उत्तर प्रदेश का रहने वाला है ,इसलिए प्रखंड के अधिकारियों से वह नासमझी के कारण गुजारिश कर रहा है कि मुझे अपने प्रदेश भेजने के लिए व्यवस्था किया जाए। मौके पर अंचल अधिकारी आलोक कुमार प्रखंड विकास पदाधिकारी मनोज कुमार श्रीवास्तव थाना अध्यक्ष धनंजय कुमार ने उक्त दंपति को समझाते हुए कहा कि, जब तक यह समस्या समाप्त नहीं होगी तब तक तुम्हें लॉक डाउन के अंतर्गत यहीं रहना होगा। इसके बदले अधिकारियों ने उसे समझाते हुए कहा कि कार्यालय पर भी रहकर कुछ काम कर सकते हो इसके बदले मे खाना पीना के साथ मजदूरी भी दिया जाएगा । लेकिन दंपति ने ये सब बातों को नजर अंदाज करते हुए अनाज कि बोरी उठाया अौर अपने डेरा के अोर चलते बना ।।


Posted by


जरूर पढ़ें