Live

गोपालगंज : गोपालगंज जिले के मांझागढ़ ग्रामीण क्षेत्र की महिलाएं  अंधविश्वास पर भरोसा करते हुए  सनातन धर्म के अनुसार  कोरोना से बचाव हेतु  कर रही टोटरम शाम को सात बजे घर से बाहर दीप जलाये जा रहे  है इन महिलाओं का मानना है कि घर के बाहर  दीप जलने से  कोरोना का वायरस घर मे प्रवेश नही कर सकता है वही दूसरी तरफ महिलायें कुओं में नल से पानी  चला कर पानी  कुआँ में भर रही थी  ।पूछ ताछ करने पर महिलाओं ने बताया  जिसके जितने बेटे है उतने बाल्टी पानी नल से भर कर  कुओं में डालने  से बेटो को कोरोना से संक्रमित नही हो सकता है । जब पूछा गया कि बेटी के लिए कुवा में पानी  भरे है कि नही  तो उन्होंने बताया  कि बेटी की लिए कोई आवश्यकता नही है  । बुद्धि जीवियों के द्वारा और सामाजिक कार्यकर्ताओं के द्वारा गांव गांव में जाकर लोगो को समझाया जा रहा है । कि कोरोना से बचाव हेतु अभी दुनिया मे कोई दवा नही है ।इस बचाव का सरल उपाय है साफ़ सफाई से रहना  तथा एक दूसरे से बचना  फिर भी ग्रामीण क्षेत्र की महिलाएं साफ सफाई पर ध्यान आकर्षित न कर    एक दूसरे से बचने का प्रयास न कर  अंधविश्वास पर भरोसा करते हुए  टोटरम करने पर ज्यादा विश्वास करते हुए  कुएं में पानी भरने और दीप जलाने  प्रक्रिया  देखी जा रही है । खैर एकतरफ देख जाय तो कुआं सूखता जा रहा था  कोई कुआं में जल एकत्रित नही करता था कोरोना के डर से कुओं में  पानी तो एकत्रित हो रहा है  बहुत  अच्छा काम हो रहा  है  । इस तरह से कोई एक बाल्टी कुआँ में पानी नही डाल सकता है ।।


Posted by


जरूर पढ़ें