Live

पटना : समाहरणालय सभागार में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से की। बैठक में अवगत कराया गया कि अभी यहां स्टेज वन एवं स्टेज टू  की स्थिति है । इसके लिए सामाजिक अलगाव का कठोरता से पालन करवाने की जरूरत है। बैठक मेंजिलाधिकारी ने प्रत्येक  प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में 12 रैपिड रिस्पांस टीम का गठन करने तथा हरेक 3 घंटों के लिए चार टीम को क्रियाशील रहने का निर्देश दिया है। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को आवश्यक संसाधन से सशक्त बनाने तथा प्रत्येक टीम को आवश्यक साधन एवं सुविधा उपलब्ध कराने का निर्देश सिविल सर्जन को दिया है।किसी व्यक्ति के संदिग्ध अथवा संक्रमित होने की सूचना के आधार पर इन टीमों के द्वारा स्थलीय भ्रमण कर आवश्यक विवरण तैयार किया जाएगा तथा आवश्यकतानुसार कार्रवाई की जाएगी। प्रत्येक पीएचसी में नोडल पदाधिकारी भी बनाने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने नोडल पदाधिकारी से प्रत्येक दिन का अद्यतन प्रतिवेदन उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। जिलाधिकारी ने आंगनबाड़ी केंद्र को भी एक्टिव रखने को कहा। उन्होंनेआशा ,एएनएम ,चौकीदार, मुखिया ,वार्ड सदस्य आदि को सक्रिय एवं तत्पर रखने का निर्देश दिया। जिलाधिकारी ने संक्रमण के प्रकोप से बचने हेतु लोगों से बाहर नहीं निकलने, आवश्यक कार्य हेतु परिवार के एक व्यक्ति को बाहर निकलने , वाहन का न्यूनतम प्रयोग करने तथा अफवाह पर ध्यान ना देने का आह्वान किया है । जिलाधिकारी ने सामग्री आपूर्ति एवं सामग्री के मूल्य संबंधी पहलुओं की जांच हेतु जगह जगह पर छापेमारी करने का निर्देश अनुमंडल पदाधिकारी एवं अपर समाहर्ता आपूर्ति को दिया है। लॉकडाउन को सफल बनाने हेतु वरीय पुलिस अधीक्षक ने ऑटो, ई -रिक्शा के परिचालन पर पूर्ण पाबंदी लगाने तथा जब्ती की कार्रवाई सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। उन्होंने चौक चौराहों तथा सीमावर्ती क्षेत्रों में पर्याप्त संख्या में ड्रॉप गेट ,बैरियर एवं ट्रॉली लगाने का निर्देश दिया। जिलाधिकारी के वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षात्मक बैठक में सभागार में उपस्थित जिलास्तरीय प्रशासनिक एवं पुलिस पदाधिकारियों के अतिरिक्त वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अनुमंडल एवं प्रखंडों  से एसडीओ,  डीएसपी ,अंचलाधिकारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी  एवं थानाध्यक्ष संबद्ध थे।उधर दानापुर रेलवे स्टेशन पर महाराष्ट्र से उतरे पैसेंजर का स्क्रीनिंग खगौल के रेलवे उच्च विद्यालय में किया गया। स्क्रीनिंग की गई व्यक्तियों की संख्या 3682 है जिसमें स्क्रीनिंग के उपरांत संदिग्ध व्यक्तियों की संख्या 11 पाया गया जिसे आगे की जांच की कार्रवाई हेतु ऐम्स पटना भेजा गया। जिलाधिकारी स्वयं यात्रियों की सुविधा तथा विद्यालय में संचालित स्क्रीनिंग कार्य की लगातार मॉनिटरिंग करते रहे।जिला प्रशासन द्वारा यात्रियों को स्क्रीनिंग के उपरांत अपने गंतव्य स्थल तक भेजने हेतु 40 बस की निशुल्क सुविधा उपलब्ध कराई गई। जिन रूटों के लिए बस मुहैया कराया गया हुआ है दानापुर मुजफ्फरपुर, दानापुर दरभंगा ,दानापुर छपरा ,दानापुर नवादा ,दानापुर पूर्णिया ,पटना सहरसा भागलपुर ,पटना किशनगंज है। इस प्रकार 40 बसों के माध्यम से कुल 3135 व्यक्तियों को अपने गंतव्य स्थल के लिए निशुल्क बस की सुविधा के द्वारा भेजा गया।।


Posted by


जरूर पढ़ें