Live

कोरोना से बचाव हीं सबसे बड़ा इलाज है

एक दूसरे के संपर्क में आने से करें परहेज

सदर अस्पताल में तैयार है पांच बेड का आईसोलेशन वार्ड

छपरा 17 मार्च। सारण समाहरणालय सभाकक्ष में जिलाधिकारी सुब्रत कुमार सेन ने नोवेल कोरोना वायरस को लेकर प्रेस कंफ्रेंस किया। जिसमें जिलाधिकारी ने कहा कि  कोरोना को लेकर अफवाहों पर ध्यान नहीं दें। सही जानकारी के आभाव में लोग कोरोना वायरस के संक्रमण से डर रहे हैं। डरने की जरूरत नहीं है। इससे बचने के लिए जागरूक होने की जरूरत है। जिलाधिकारी सुब्रत कुमार सेन ने कहा कि कोरोना से बचने के लिए एक दूसरे के संपर्क में आने से परहेज करें। भीड़भाड़ वाले जगहों पर जाने से बचें। डीएम ने कहा कि खांसी व छींक आने पर डॉक्टरों से सलाह लेने की आवश्यकता है। उन्होने कहा कोरोना से निपटने के जिला प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट है। इसको लेकर स्वास्थ्य विभाग की ओर से पूरी तैयारी कर ली गयी है। जिले में अब तक एक भी पॉजिटिव केस नहीं मिला है। डीएम ने बताया कि 16 लोगों को 14 दिन के अंडर सर्विलांस पर रखने के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया सभी के जांच रिपार्ट में निगेटिव पाया गया हैं। अभी 14 लोगों को अंडर सर्विलांस पर रखा गया है। डीएम ने बताया कि अभी तक सारण में 30 लोगों को संदेह होने पर जांच किया गया है। कोरोना से मरीजों का इलाज नि:शुल्क किया जायेगा, यानि इसका खर्च राज्य सरकार उठायेगी। वहीं अगर कोरोना से किसी व्यक्ति की मौत होती है तो राज्य सरकार के द्वारा 4 लाख रूपये का मुआवजा राशि देने का प्रावधान किया गया है। इस मौके पर सिविल सर्जन डॉ. माधवेश्वर झा, डीपीएम अरविन्द कुमार, डब्ल्यूएचओ के एसएमओ डॉ. रंजितेष कुमार, डीपीआरओ ज्ञानेश्वर प्रकाश, सीफार के प्रमंडलीय कार्यक्रम समन्वयक गणपत आर्यन समेत अन्य मौजूद थे।

31 मार्च तक सभी स्कूल-कॉलेज व कोचिंग संस्थान बंद:

 जिलाधिकारी ने बताया कि जिले में सभी निजी व सरकारी स्कूलों, कॉलेज, कोचिंग संस्थान, पार्क, चिड़िया घर को 31 मार्च तक बंद करने का आदेश दिया गया है। उन्होने कहा कि जीम के संचालकों से भी अपील किया गया है कि 31 मार्च तक जीम को बंद किया जायें।  

सदर अस्पताल में तैयार है पांच बेड का आईसोलेशन वार्ड:

नोवेल कोरोना वायरस से निपटने के लिए सदर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में पांच बेड का आईसोलेशन वार्ड बनाया गया है। जिसमें 24 घंटे डॉक्टर व कर्मियों की ड्यूटी लगायी गयी है। इस वार्ड में सभी जरूरी दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित की गयी है। सभी स्टॉफ मास्क का प्रयोग कर रहें हैं। 

लक्षण मिलने पर हीं करें मास्क का प्रयोग:

जिलाधिकारी ने कहा कि मास्क के प्रयोग को लेकर आम लोगों में जानकारी की कमी है। मास्क का प्रयोग सभी लोगों को नहीं करना चाहिए। मास्क का प्रयोग वहीं लोग करें जिनका खांसी हो, बार-बार छींक आ रहा है। 

प्रतिदिन शहरी क्षेत्रों में फागिंग व एंटी लार्वा का छिड़काव: 

जिलाधिकारी ने बताया कि कोरोना वायरस को लेकर छपरा नगर निगम के नगर आयुक्त एवं नगर पंचायतों के सभी कार्यपालक पदाधिकारियों प्रतिदिन शहरी क्षेत्रों में फागिंग कराने के साथ-साथ एंटी लार्वा का छिड़काव कराने के लिए निर्देश दिया गया है। इससे संबंधित प्रतिवेदन जिला आपदा प्रंबंधन शाखा को निश्चित रूप से उपलब्ध करायें।

इन बातों का रखें ध्यान: 

अपने हाथों को साबुन और पानी से बार-बार धोएं या अल्कोहल आधारित हैण्ड वाश, सेनेटाइजर का उपयोग करें

खांसने, छींकने, खाना पकाने से पहले, पकाने के दौरान एवं बाद में, खाना खाने से पहले एवं  शौचालय के बाद एवं जानवरों की देखभाल के बाद हाथों को साबुन एवं पानी से अच्छी तरह साफ़ करें

छींकते एवं खांसते समय अपना मुँह ढककर रखने, अपनी आँखों, नाक और मुँह को बार-बार छूने से बचने 

अगर किसी व्यक्ति को खाँसी या बुखार हो तो निकट सम्पर्क में जाने से बचें 

किसी बड़े समारोह एवं आयोजन में भाग लेने से बचें 

व्यक्तिगत स्वच्छता के साथ-साथ सार्वजनिक स्थलों की साफ़-सफाई हेतु समुदाय को जागरूक किया जाए ।।


Posted by


जरूर पढ़ें