Live

4 घंटे बाद प्रशासन व चिकित्सकों का दल विशुनपुरवा जाकर पर्यटकों से  स्वास्थ्य संबंधी जानकारी ली।

बेतिया लौरिया : थाईलैंड देश से 106 पर्यटक रविवार को लौरिया के नंदनगढ़ आकर भगवान बुद्ध की पूजा अर्चना की। बौद्धिष्ट फ्रांग परावत की अगुआई में सभी बौद्ध भिक्षु रमपुरवा से पैदल नंदनगढ़ आए थे भगवान बुद्ध की परिक्रमा करने के बाद वे सभी विदेशी पर्यटक बगहा मार्ग में स्थित विशुनपुरवा मंदिर परिसर में अपना पड़ाव डाले। 

इधर लौरिया प्रशासन, पुलिस व चिकित्सकों का दल थाईलैंड के पर्यटकों से 4 घंटे बाद जाकर मिला और उनसे स्वास्थ्य संबंधी जानकारी ली। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ अब्दुल गनी ने बौद्ध भिक्षुओं से पूछा कि आपको किसी तरह का कोई स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां तो नहीं है। इसके बाद डॉ द्वारा सभी बौद्घ भिक्षुओं को टोपी, मास्क दिया गया और उन्हें कोरोना वायरस संबंधित जानकारी मुहैया कराई गई। इधर चिकित्सकों ने उन्हें खान पान में कुछ चीजों का परहेज करने की बात कही। 

 इधर द्विभाषिया विश्वनाथ प्रसाद ने दुःखी होकर बताया कि सभी बौद्ध भिक्षु टोपी और मास्क पहनकर जब निकलते हैं तो वहाँ और उस जगह के आसपास के लोग हमलोगों पर तंज कस रहे हैं । वे लोग मजाक उड़ाते हुए कहते हैं कि देखो यह सब कोरोना वायरस के मरीज हैं। इनसे दूर रहो , नहीं तो यहां के लोगों को भी यह बीमारी हो जाएगी। 

विदेशी पर्यटकों में डंचमान, पंघाफन , नामोंनत्रि, फराओंग, फरापीरोस्ट सहित 106 बौद्घ भिक्षु थे। 

इधर लौरिया से कोरोना वायरस से संबंधित जानकारी प्राप्त करने के लिए सीओ संजय कुमार सिंहा, थानाध्यक्ष रणधीर कुमार भट्ट, व प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ अब्दुल गनी, डॉ सचिन कुमार के साथ सभी अस्पतालकर्मी मौजूद थे।।


Posted by


जरूर पढ़ें