Live

इमामगंज। प्रखंड के स्थानीय गांधी मैदान मे लोक कला विकास मंच की ओर से लोक कला महोत्सव का आयोजन किया गया। इस महोत्सव का शुभारंभ मुख्य अतिथि स्थानीय सीओ सह ट्रेनिंग आइएएस अधिकारी कथावते मयूर अषोक ने फिता काट कर किया। महोत्सव मे कुषल यूवा कार्यक्रम के सहायक निदेषक भरत जी राम, डीएसएम पंकज कुमार, अमीत कुमार एवं समाजसेवी अवधेष प्रसाद भी उपस्थित हुए। जहां उप समाहर्ता ने समाजसेवी अवधेष प्रसाद को बुके देकर संम्मानीत किया। महोत्सव मे रोजगार मेला आकर्षण का केन्द्र बना रहा। वहीं लोक कला विकास मंच के बच्चों ने बिहार सरकार के द्वारा चलाए जा रहे कुशल युवा कार्यक्रम के बारे में, दहेज प्रथा, बालविवाह, शराबबंदी, जल जीवन हरियाली सहित अन्य हिन्दी एवंम देश भक्ति गानों पर गीत संगीत एवं नुक्कड़ नाटक के माध्यम से ऐसा जलवा बिखेरा की उपस्थित दर्शकों को झूमने पर मजबूर कर दिया। इस संबंध मे सुमन कुमार ने बताया कि रोजगार मेला मे 43 आवेदन प्राप्त हुआ है। सभी आवेदन दाताओं को बुधवार को साक्षात्कार के लिए बुलाया गया है। उन्होंने कहा कि इस समारोह के दौरान सभी चैनीत बच्चों को कोपी, किताब, पेन, पेन्सिल, इंस्ट्रूमेंट बॉक्स, मेडल और शील्ड देकर सम्मानित किया गया। इसके अलावा इस कार्यक्रम में  आये हुए मुख्य अतिथि एवंम पत्रकार को भी सम्मानित किया गया। वहीं इस समारोह के दौरान स्थानीय सीओ सह ट्रेनिंग आइएएस अधिकारी कथावते मयूर अषोक ने उपस्थित बच्चों को उत्साहित किया और इस तरह के बच्चों के बीच कार्यक्रम आयोजित करने के लिए लोक कला विकास मंच के निदेशक सुमन कुमार और उनके संस्था के लोगों धनबाद दिया। और बच्चों को क्रेडिट कार्ड, बैंकिंग की तैयारी सहित अन्य योजनाओं के बारे में कई जानकारी दिए। उन्होंने बच्चों से कहा कि आप सभी देश के उज्जवल भविष्य है अगर आप में कुछ बच्चे आगे की तैयारी करना चाहते हैं। और आपके आगे की तैयारी करने में कोई प्रॉब्लम आती है तो आप हमसे किसी भी प्रकार मदद ले सकते हैं हम आप सब ओके लिए हम समय साथ रहेंगे। इसके साथ  कहा कि सरकार के द्वारा चलाए जा रहे यह कुशल युवा कार्यक्रम योजना रंग लाने लगी है। अब इस इलाके के युवाओं युवतियों कम्प्यूटर की पढ़ाई कर देश के कई राज्यों में खुद नौकरी भी कर ररहे है। उन्होंने कहा कि यह इलाका पूर्व से सुदूरवर्ती और नक्सलवाद रहा है लेकिन अब एसा नहीं है। यहां के लोगों में पहले शिक्षा की कमी थीं, जिसके कारण लोगों में बेरोजगारी थीं, जिसके कारण इस इलाके युवाओं भुल-भटकर नक्सलीयों की बहकावे में चले जाते थें। अब इस इलाके के युवाओं व युवतियों शिक्षा हासिल कर मंजिल को छूते हुए कुछ कर गुजरने की उनमें जज्बा है। इस मौके पर लोक कला विकास मंच के निदेशक सुमन कुमार, मनवा अधिकार के प्रसिडेंट कोडीनेटर मो. शारिक जी, शिक्षक हिमांशु कुमार, समाजसेवी अवधेश प्रसाद, छकरबंधा पंचायत से मुखिया श्याम सुंदर प्रसाद सहित अन्य सैकड़ो लोग मौजूद थे।।


Posted by


जरूर पढ़ें