Live

संवाददाता- पंकज नारायण मिश्र वंशी अरवल

अरवल : आम लोगों के बीच पर्यावरण संरक्षण एवं उपयोगिता बढ़ाने के उद्देश्य से मंगलवार को इंडोर स्टेडियम में जिला प्रशासन और मोर मुकुट मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड के तरफ से जल जीवन हरियाली दिवस के मौके पर पौधा वितरण कार्यक्रम आयोजित की गई थी। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता अजय शर्मा ने की। मुख्य अतिथि के रूप में जिला पदाधिकारी रविशंकर चौधरी और मोर मुकुट मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड के जिला प्रभारी अनिल कुमार ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम की शुरुआत की। इस कार्यक्रम में भाग लेने आए हुए लोगों को  हजारों लोगों को पौधा वितरण किया गया। इस दौरान जिला पदाधिकारी रवि शंकर चौधरी ने कहा कि जल जीवन हरियाली का मुख्य उदेश जिले में आम लोगों के बीच पर्यावरण संरक्षण एवं उसकी उपयोगिता के बारे में बताना है। उन्होंने लोगों से जल जीवन हरियाली योजना में बढ़-चढ़कर अपनी भागीदारी सुनिश्चित करने की अपील की। उन्होंने कहा कि जिले में इस वित्तीय वर्ष ढाई लाख पौधारोपण किया जाएगा अरवल जिले के लोग विगत दिनों में बाढ़ और सुखाड़ जैसी त्रासदी को झेला है इसलिए आगे ऐसी त्रासदी ना हो इसके लिए हम सबको जल जीवन हरियाली योजना के तहत भागीदारी निभानी चाहिए ताकि आने वाले समय में इस तरह के त्रासदी ना हो। उन्होंने कार्यक्रम के तहत लोगों को संकल्प दिलाया कि प्रत्येक व्यक्ति अपने आसपास एक एक पौधा जरूर लगाएं ताकि बाढ़ और सुखाड़ जैसी समस्या ना हो।बिजली की खपत कम करने के लिए सरकार अक्षय ऊर्जा को प्रोत्साहित कर रही है।  सरकार ने इसे जल जीवन हरियाली योजना में शामिल कर लिया है।  मौसम परिवर्तन से उत्पन चुनौतियों से सामना और जल को प्रदूषण मुक्त रखने, हरित आच्छादन को बढ़ावा देने और सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए सरकार के द्वारा जल जीवन हरियाली अभियना हो रहा है।  इस कारण सौर ऊर्जा का महत्व बढ़ गया है।  जल जीवन हरियाली अभियान की जागरूकता के लिए नए शेड्यूल तैयार किए गए हैं।  इसके तहत प्रत्येक माह के पहले मंगलवार को जल जीवन हरियाली दिवस मनाया जाएगा।  इसमें जल जीवन हरियाली विषय पर चर्चा की जाएगी। जिले में प्रोजेक्ट बनाकर 20 से 25 एकड़ जमीन में सोलर यंत्र स्थापित किया जाएगा जिससे पूरे जिला को सौर ऊर्जा दिया जा सके। अगले दिवस पर इसकी भी समीक्षा की जाएगी जल संचय के लिए किसानों को अपने खेत के किनारे गड्ढा खोदना है ताकि सिंचाई के लिए जल की कम आवश्यकता पड़े।चापाकल कुआं एवं नाला के पास सोख्ता बनाया जाएगा जिससे पानी का असर बना रहे जल जीवन हरियाली अभियान से संबंधित जिम्मेवारी सभी लोगों को बखूबी निभानी होगी ताकि लोगों को जल संकट से जूझना न पड़े। प्लास्टिक और पॉलिथीन का उपयोग पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा इसके लिए लोगों को भी जागरूक होना होगा और इस अभियान में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेना होगा। लोगों में जागरूकता लानी होगी जिससे पर्यावरण संतुलन संबंधित सभी कार्य संपन्न होंगे। जल जीवन हरियाली दिवस पर आम लोगों के बीच पर्यावरण संरक्षण और उसकी उपयोगिता के बारे में जानकारी दी गई। अब प्रत्येक माह के पहले मंगलवार को जिलास्तर से लेकर पंचायत स्तर तक के कार्यालय में कार्यालय प्रमुख की अध्यक्षता में कार्यकम का आयोजन किया जाएगा। अवकाश की स्थिति में बुधवार को जल जीवन हरियाली दिवस मनाई जाएगी। इसमें सौर ऊर्जा के उपयोग को प्रोत्साहन और ऊर्जा की बचत पर कार्यक्रम के पहले 15 मिनट में भागीदारों को जल जीवन हरियाली अभियान के 11 उपयोगकर्ताओं के संबंध में जानकारी दी जाएगी।  इसके बाद चयनित विषय पर परिचर्चा का आयोजन किया जाएगा।  वैसे सरकार बिजली की खपत को रोकने के लिए जरूरत के अनुसार ही बिजली उपकरण चलाने का सरकारी विभागों को आदेश दिया गया है।  इसके बावजूद बिजली की खपत कम नहीं हो रही है। इस अभियान के तहत  बच्चों को बताएंगे जल संरचना की महता सरकारी विद्यालयों में जहां सौर ऊर्जा की इस्तेमाल के लिए प्रेरित किया जाएगा।  वहाँ स्कूलों में बच्चों को शिक्षक और स्थानीय प्रतिनिधियों के बच्चों को जल संरचना के महत्व की जानकारी दी जाएगी।।


Posted by


जरूर पढ़ें