Live

मुशायरा कार्यक्रम में जमकर लोंगो ने लुफ्त उठाया

शेखपुरा। लगेगी आग तो आयेंगे कई घर इसके जद में, यहाँ सिर्फ मेरा मकान थोड़े ही है! देश और विदेशों में मशहूर शायर राहत इन्दौरी के इस शेर पर यहाँ देर शाम तक बड़ी संख्या में उपस्थित लोग तालिया बजाते रहे। हंसने, गुनगुनाने और देश समाज के बारे में सोचने को मजबूर करने वाले एक से एक शेर और शायरी ने लोगो को बांधे रखा। उर्दू निदेशालय और जिला प्रशासन के संयुक्त तत्वाधान में रविवार को फरोग ए उर्दू के तहत सेमिनार और मुशायरा का आयोजन किया गया। स्थानीय समाहरणालय स्थित परेड ग्राउंड में इस आयोजन का विधिवत उद्धाटन जिलाधिकारी इनायत खान, उनके पति जमुई एसपी इनामुल हक़, शेखपुरा एसपी दयाशंकर, शायर राहत इन्दौरी आदि ने दीप जलाकर की। इस आयोजन के लिए जिला प्रशासन के सभी जिलाबासियो को आमत्रित किया था। कार्यक्रम का नाम एक शाम अमन का पैगाम रखा गया था. इस आयोजन के लिए परेड ग्राउंड में विषय व भव्य व्यवस्था की गयी थी। लोगो को बैठकर इस आयोजन का लुफ्त उठाने के लिए कुर्सियों और विशेष लाइटिंग की भी व्यवस्था की गयी थी। इस आयोजन में सबसे ज्यादा तालिय राहत इन्दौरी ने बातोरी. बुलाती है .... पर जाने का नय. ... चल दिए तो फिर रुकने का नय आदि शायर ने लोगो का मान मोह लिया। इसके अलावा चांदनी पाण्डेय, रौशनी कुमारी. हिना रिजवी, सुनील कुमार तंग, काजी खुर्शीद , डॉ अनिता कुमारी , आदि के नज्म ने भी लोगो को तालिया पीटने पर मजबूर कर दिया। शायरों ने इस अवसर पर धीर गंभीर सामयिक समस्या पर तीखे वाण चलाने के अलावा इश्क और मसूका के साथ साथ लोगो को हँसाने बाल्ले हल्के फुल्के शेर भी पढ़े। इस मौके पर जमुई के एसपी और शेखपुरा की डीएम के पति एनामुल हक ने पुलिस की परेशानियों की चर्चा शेर के माध्यम से की।डीडीसी सत्येन्द्र कुमार सिंह ने आगत अतिथियों को धन्यवाद

ज्ञापित किया। इस आयोजन को सफल बनाने में निदेशक डीआरडीए सह जिला अपल्पसंखक पदाधिकारी सत्येंद्र त्रिपाठी की भूमिका अहम रही।।


Posted by


जरूर पढ़ें