Live

पूर्णियां से मलय झा की रिपोर्ट

पूर्णिया : विश्वविद्यालय द्वारा शिक्षकों की प्रोन्नति और स्थायीकरण के लिए दो तरह के यूजीसी बिहार सरकार के पैमाने पर परफॉर्मा तैयार किया गया है। सभी प्रधानाचार्य विभागाध्यक्षों को यह भेजा गया है। साथ ही विश्वविद्यालय वेबसाइट पर भी उपलब्ध है। सभी शिक्षकों को यह दिशानिर्देश दिया गया है कि 1 महीने के अंदर 31 मार्च 2020 तक जो भी शिक्षक प्रोफॉर्मा उचित माध्यम के द्वारा भरकर 30 अप्रैल तक कुलसचिव कार्यालय के चयन प्रकोष्ठ सेल और असिस्टेंट सेल में जमा करा देंगे उस पर तुरंत कार्यवाही की जाएगी। पूर्णियां विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर राजेश सिंह का कहना है कि जो बीपीएससी के द्वारा चयनित अध्यापक हैं और जो भी सरकार यूजीसी के मानकों को पूरा करते हैं उनका नियमितीकरण 1 से 2 महीने के बीच में कर दिया जाएगा। बाकी जो प्रोन्नति के मामले हैं यूजीसी और सरकार के द्वारा बनाए गए दिशा-निर्देश के अनुसार जल्द ही उस पर कार्यवाही की जाएगी। जो बीएनएमयू मधेपुरा के मामले पूर्णिया विश्वविद्यालय को अग्रेसित किए गए थे उस पर भी कार्यवाही की जा रही है। जो असिस्टेंट प्रोफेसर से सलेक्शन ग्रेड वाले मामले हैं ज्यादातर सही पाए गए हैं। उस पर नियमानुसार कार्यवाही हो रही है और जल्द ही इसकी सूचना दे दी जाएगी। मेरिट, प्रमोशन कालबद्ध प्रोन्नति के कुछ मामलों में दस्तावेज की कमी है जिसके बारे में बीएनएमयू मधेपुरा को पत्र लिखा गया है। कुलसचिव कार्यालय से एक सूचना दिया गया है जिसमें विभागाध्यक्ष और शिक्षकों को सलाह दी गई है कि जिस शिक्षक की कोई प्रोन्नति या कोई अन्य समस्याएं हैं शिक्षक उचित माध्यम से पत्र लिखें और कुलसचिव के द्वारा यदि समस्या निवारण नहीं हो रहा है तो शिकायत निवारण प्रकोष्ठ को पत्र लिखें। शिक्षक संघ द्वारा महामहिम कुलाधिपति और सरकार को किसी प्रकार का पत्र लिखना उचित नहीं है। सभी शिक्षकों को आगाह किया गया है कि वह अपनी समस्याएं अपने लेटर पैड अपने नाम से लिखें  उनकी समस्याओं का निपटारा तुरंत किया जाएगा।।


Posted by

Pawan Kumar


जरूर पढ़ें