Live

राजू सिंह कि रिपोर्ट ।

 दरभंगा :  आज दिनांक 21 फरवरी 2020 को विश्वविद्यालय समाजशास्त्र विभाग में भारतीय सामाजिक अनुसंधान परिषद नई दिल्ली के द्वारा संपोषित सामाजिक विज्ञान में शोध पद्धति के 10 दिवसीय कार्यशाला के तीसरे दिन कार्यशाला में चाणक्या राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, पटना के प्रोफेसर अजय कुमार ने शोध के उद्देश्य और उच्च स्तर के शोध करने के तरीके एवं सिद्धांत एवं प्रश्नावली के ऊपर प्रकाश डाला। उन्होंने प्रश्नावली को उपकल्पना, शोध के उद्देश्य,  एवं केस स्टडी से भी जोड़कर शोधार्थियों को नए दृष्टिकोण प्रदान किया। समाज के अंदर के व्यवहार एवं बाहर के व्यवहार में को देखते हुए शोध की दिशा एवं दशा पता चलता है। प्रो  कुमार ने आगे जोड़ते हुए बताया कि साक्षात्कार प्रश्नावली में शोध के उद्देश्य और उपकल्पना दोनों महत्वपूर्ण होते हैं ।इन दोनों के सामंजस्य से साक्षात्कार प्रश्नावली का निर्माण किया जाता है। प्रो अजय कुमार ने अपने व्याख्या ने बताया कि  प्रश्नावली एवं केस स्टडी प्रश्नावली के माध्यम से शोध के उद्देश्य के निष्कर्ष तक पहुंचने में आसानी होती है । प्रश्नावली को बनाते समय विभिन्न प्रकार के प्रश्नों का समावेश होना आवश्यक होता है। ऐसे प्रश्नों का समावेश होने से आंकड़ों का निष्कर्ष अर्थ पूर्ण होता है।

दूसरे वक्ता के रूप में विश्वविद्यालय मनोविज्ञान विभाग के प्रोफेसर ध्रुव कुमार ने 'बाय वेरियट को रिलेशन एंड रिग्रेशन' विषय पर अपना व्याख्यान प्रस्तुत किया उन्होंने कहा कि वर्णात्मक सांख्यिकी तीन तरह के आंकड़ा संग्रह होते हैं । इसी आधार पर सह संबंध एवं प्रतिगमन का निष्कर्ष निकाला जाता है। यह एक वैज्ञानिक विधि है। शोधार्थियों को एसपीएसएस एवं पीएसपीपी सॉफ्टवेयर की जानकारी दी गई ।इस सॉफ्टवेयर के द्वारा शोध के आंकड़ों का विश्लेषण सारणीकरण एवं चित्रण आसानी से हो जाता है। जिससे शोध गुणवत्तापूर्ण बन जाता है ।  आज कार्यशाला  के निदेशक, डीन, सामाजिक विज्ञान संकाय एवं विभागाध्यक्ष विश्वविद्यालय समाजशास्त्र विभाग प्रोफेसर विनोद कुमार चौधरी ने अतिथि विद्वान का परिचय देते हुए कहा कि कार्यशाला की सफलता इनके शिक्षण एवं प्रशिक्षण पर निर्भर करता है ।इन विद्वानों के द्वारा समाजशास्त्र विभाग में आकर शोधार्थियों को पूरे मनोयोग से प्रशिक्षण देने से शोधार्थियों की कार्यकुशलता, नवीनता और तार्किकता के स्तर बढ़ रहे हैं। आज के कार्यशाला के तीनों सत्र का रिपोर्ट सीएम लॉ कॉलेज के सहायक प्राध्यापक डॉक्टर सोनी सिंह ने किया। इस अवसर पर विभाग के वरिष्ठ प्रोफेसर गोपी रमण प्रसाद सिंह ,डॉ मंजू झा, डॉ सरोज चौधरी, सुश्री लक्ष्मी कुमारी,प्राणतारती भंजन आदि उपस्थित थे। अंत में अतिथियों का सम्मान  पाग चादर से कार्यशाला के सह निदेशक सुश्री सारिका पांडेय ने किया।।


Posted by

Pawan Kumar


जरूर पढ़ें