Live

मो मेराज आलम की रिपोर्ट ।।

मधेपुरा : भारतीय शास्त्रीय संगीत के संरक्षक पंडित परिमल प्रसाद यादव का देहांत गुरुवार को उनके पैतृक गांव खोजरी में हो गया. जिससे संगीत प्रेमी एवं संगीतज्ञ में शौक की लहर है. शुक्रवार को जिले में सामाजिक एवं संस्कृतिक गतिविधियों को बढ़ावा देने वाली संस्था प्रांगण रंगमंच कार्यालय में श्रद्धांजलि सभा आयोजित की गई. जहां प्रांगण रंगमंच के पदाधिकारियों एवं रंगकर्मियों ने उनके तस्वीर पुष्पांजलि अर्पित कर दो मिनट का मौन धारण किया. कार्यकारी अध्यक्ष विनोद कुमार केशरी ने कहा कि उनके निधन से संगीत के क्षेत्र में एक अपूर्ण क्षति हुई. जिसे पूरा करना मुमकिन नहीं है. उन्होंने बताया कि उत्तर बिहार में लोग उनको संगीत के लिए भीष्म पितामह मानते थे. उन्होंने कहा कि पंडित परिमल प्रसाद यादव ने अपने सैकड़ों से तैयार किए है जो आज देश के विभिन्न जिलों में संगीत का प्रचार-प्रसार कर रहे हैं. प्रांगण रंगमंच के सचिव अमित आनंद ने कहा कि पंडित परिमल प्रसाद यादव ने निधन से संगीत के लिए एक कर्मयोगी चल गए. हम सब के सिर पर जो छाया थे, वही उठ गई. पंडित जी जैसे कलाकार युगों में जन्म लेते हैं. उन्होंने संगीत के लिए ही पूरा जीवन समर्पित कर दिया. अंतिम क्षण तक वह संगीत विद्या का दान ही करते रहे और गाते बजाते ही दुनिया को छोड़ गए. वह सही अर्थों में कर्मयोगी थे. ये उनका कर्मयोग ही है कि विधाता ने उन्हें कोई कष्ट नहीं दिया. साथ ही उन्होंने भी किसी को न कष्ट दिया न किसी से सेवा ही ली. प्रांगण रंगमंच के कार्यक्रम प्रभारी शशिप्रभा जसवाल ने कहा कि पंडित परिमल प्रसाद यादव भारतीय शास्त्रीय संगीत के प्रति पूरी तरह से समर्पित थे और कोसी को विश्व के मानचित्र पर लाने में उनका बहुत बड़ा योगदान रहा है. पंडित के निधन से संगीत जगत में शोक की लहर है. प्रांगण रंगमंच के सदस्य एवं गायक सुनीत साना ने कहा कि मैं सरकार एवं जिला प्रशासन से माँग करता हूं कि उनके जन्मदिवस या पुण्यतिथि के दिन जिले में कोई एक सांस्कृतिक गतिविधि होनी चाहिए जिससे आने वाले पीढ़ी भी उनको जान सके और उनके प्रति लोगों के दिल में हमेशा सम्मान बरकरार रहे हैं. मौके पर प्रांगण रंगमंच के संयुक्त सचिव आशीष कुमार सत्यार्थी एवं शिवानी अग्रवाल, मीडिया प्रभारी गरिमा उर्विशा, सोशल मीडिया प्रभारी बबलू कुमार, कार्यकारी सदस्य अक्षय कुमार एवं धीरेंद्र कुमार निराला, रंगकर्मी शिवांगी गुप्ता, शशिभूषण कुमार, अनु प्रिया, अंशु, तन्नू कुमारी, अब्यम ओनू, नेहा भगत, नीरज कुमार, पिंटू कुमार, मुस्कान अग्रवाल, कई रंगकर्मी एवं कला प्रेमी मौजूद थे ।।


Posted by

Pawan Kumar


जरूर पढ़ें