पूर्णियां से मलय झा की रिपोर्ट 

पूर्णियां :-कोरोना के कहर के बाद अब बिहार में गर्मी का सितम देखने को मिल रहा है। चिलचिलाती धूप ने लोगों को परेशान कर रखा है। सूर्य की तपिश से लोगों का जीना मुहाल है। जेठ का महीना लोगों की अग्निपरीक्षा ले रहा है। भीषण गर्मी को देखते हुए लोग जरुरी काम होने पर ही घर से बाहर निकल रहे हैं। दोपहर होते ही सड़कें वीरान हो जाती हैं। सूबे के सभी जिले में हीट वेव के कारण तापमान लगातार बढ़ रहा है। बिहार के दक्षिण मध्य और दक्षिण पश्चिमी जिले में तापमान 41 डिग्री सेल्सियस के बाहर जा पहुंचा है। जलवायु परिवर्तन के कारण मौसम में हो रहे बदलाव के कारण भीषण गर्मी पड़ रही है।


पटना, भागलपुर, मुजफ्फरपुर सहित सीमांचल के जिले में भी उमस भरी गर्मी से लोग हलकान परेशान है। न्यूनतम और अधिकतम तापमान में वृद्धि हो रही है। सुबह होते ही सूर्य आग उगलने लगता है। जैसै जैसे दिन ढलता है गर्मी चरम सीमा पर पहुंच जाती है। पिछले चार पांच दिनों से लोगों का हाल बेहाल है। लोगों को पंखे के नीचे भी गर्मी का एहसास हो रहा है। घर के बाहर और भीतर पसीना से लोग तर हो रहे हैं। जिले में दोपहर से शाम तक धरती तप रही है। इस दौरान तापमान सामान्य से तीन से 4 डिग्री तक ऊपर पहुंचता जा रहा है। आद्रता 50 फ़ीसदी तक पहुंच जाने के कारण लोगों को राहत नहीं मिल पा रही है तेज पछुआ हवा की वजह से लोगों का घर से बाहर निकलना भी मुश्किल हो गया है। बिहार के विभिन्न जिलों में तापमान 38 से 39 डिग्री तक पहुंच गया है। वायुमंडल में आद्रता व्याप्त रहने के कारण उमस और जलन हो रही है। दक्षिणी पश्चिमी मानसून आने में अभी एक सप्ताह का समय है। मौसम विज्ञान केंद्र पटना के मुताबिक अगले 72 घंटे तक गर्मी से राहत मिलने वाली नहीं है। भीषण गर्मी पड़ने के आसार हैं। अनुमान लगाया जा रहा है कि 15 जून के बाद बिहार में पूर्णिया, जमुई और बांका के रास्ते सूबे मे मानसून प्रवेश करेगा।


 


Advertisements

Posted by : Raushan Pratyek Media

Follow On :


जरूर पढ़ें

Grievance Redressal Officer (Any Complain Solution) Name: Raushan Kumar   Mobile : 8092803230   7488695961   Email : pratyak75@gmail.com